SQLSTATE[08004] [1040] Too many connections LaxmiPati Bharat
Registration No. - MPGOVT/IND/03/27/01/18065/15

Cow Welfare




And the importance of cow protection

Protection of cows from both the moral and spiritual decline towards saving the world is the single most important principle. Cows simply by preserving all the wonderful benefits of religiosity and piety automatically achieved without any effort will be different. This is because cows Godhead, Lord Krishna, the Supreme Personality as lovers, even the cows as sacred. As stated in the scriptures, Srwdevmaye Srwdevarlnkrite Devi.


Nandini Matrmmabhilsitn Sfln Kuru. Lord Krishna, the Supreme Personality of Godhead, the Brahminical culture and cow's premier defender. Without knowing and respecting these pleasing personality, one can not realize the science of God, and without this knowledge, any welfare activities or humanitarian propaganda can not be successful. Brahman cows are always friendly. The rest is secondary to the human personality, and their first concern is the comfort for cows.


Because of his presence, all the people will overcome all difficulties and always be situated in divine bliss. Krishna says that Srimad Bhagavatam "I for the health of the cows hay and grain offerings, and other suitable materials may be worshiping the cows, and cow inside me (Krishna) Krishna worship cows artificial necessities created by man. Lord Krishna, as a teacher of human society, personally showed the business community in its activities, or the business community, and the herd cows and bulls should preserve these precious animals . according to the scriptures, is the mother cow and the bull is the father of man. human society takes cow's milk


Bullock father children in the land to produce food earns Similarly, the bull is the father of human society. Father and mother of the human society will kill its spirit of life by killing. Cow to perfection the most important animal for developing the human body. The body of the foods can be maintained by any means, but cow's milk is so thin that the development of human brain tissue can understand the intricacies of a divine knowledge is essential to the particular. A decent man, fruit, vegetables, cereals, sugar and milk are expected to remain on foods. Bull cereals, etc. The agricultural production process, and thus in a sense the bull, is the father of mankind, while the cow is the mother to supply milk to human society. A decent man, so bulls and cows are expected to give all protection.


The cow is an animal which has been considered the presence of God. According to the scriptures in the mother cow called Surabhi is Lakshmi. Surabhi means- providing very beautiful goddess aura. Everything that comes from cow milk, cow dung, ghee, yogurt all the son's useful life. Gorochan sweat flowing from the head of the cow is called. Lakshmi is the ability to get in gorochan receipt. That dwelling house in which the cow is given. 33 crore gods live in the house happy. There any Washudosh goes away automatically, without any intervention


Cow's service meets the virtue of Tirthdrshn

Cow in the Scriptures condemn have been insulting. Beef-eating in this world can not be larger than the sinner. Texts make clear that the slaughter of cows is a sin for which there is no atonement. Pilgrim philosophy or by virtue of the many sacrifices are gathered, all the cows to serve only virtue is acquired. Rnbana cow came to the door, the doors are Shubdaik Chantna all. Shubkark cow appeared to be going on the trip occurs. Rangoli remained in the courtyard of the foot to keep the cow is considered auspicious. The daily feeding of the cow is nine apiece. At the foot of Brhmvawartpuran Anusargu is considered the abode of all pilgrimages. The legs of the person who engaged in the continual soil cows Tilak imposes any pilgrim is not required to be in the same time it allows for all the fruits. Also finds mention in the Puranas that the road to salvation by the mere touch of a cow tail opens. The person who does the philosophy of the morning, after continual cows, his premature death can never, it is said in the Mahabharata with the authenticity.



सर्वदेवमये देवि सर्वदेवैरलंकृते।

मातर्ममाभिलषितं सफलं कुरु नन्दिनि।।


33 crore deities reside in cows


Worship the gods of the Vedic literature we do go to the temples and shrines. God is present in all the cows in the group. Therefore, with full faith and confidence Ltd continual accomplishment of any task should serve cows. Mahābhārata to-


यत्पुण्यं सर्वयज्ञेषु दीक्षया च लभेन्नरः।

तत्पुण्यं लभते सद्यो गोभ्यो दत्वा तृणानि च।।


There is virtue in the sacrifice. All of the rooms which is worth the pilgrimage. The fruit is derived from feeding the cows.


Vishnudharmottrpuran forbidding the destruction of any of the cows should be worshiped. Roej cow or everyday person who serves or bread provides fodder for cows. Any trouble in his own way that has changed.


गाय और उसके संरक्षण का महत्व

गायों का संरक्षण दोनों नैतिक और आध्यात्मिक गिरावट से पूरी दुनिया को बचाने की दिशा में एकल सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांत है। सीधे शब्दों में गायों के संरक्षण के द्वारा सभी धार्मिकता और ईश्वर भक्ति की अद्भुत लाभ स्वचालित रूप से किसी भी अलग प्रयास के बिना हासिल किया जाएगा। इसका कारण यह है गायों देवत्व, भगवान कृष्ण के सुप्रीम व्यक्तित्व के रूप में प्रेमी हैं, यहां तक ​​कि पुण्य गायों के रूप में। शास्त्रों में कहा गया है, सर्वदेवमये देवि सर्वदेवैरलंकृते। मातर्ममाभिलषितं सफलं कुरु नन्दिनि।।, भगवान कृष्ण, देवत्व की सुप्रीम व्यक्तित्व, ब्राह्मणवादी संस्कृति और गाय के प्रधानमंत्री रक्षक है। जानने और इन मनभावन व्यक्तित्व का सम्मान करने के बिना, एक ही परमेश्वर के विज्ञान का एहसास नहीं कर सकते हैं, और इस ज्ञान के बिना, किसी भी कल्याणकारी गतिविधियों या मानवीय प्रचार सफल नहीं हो सकता। हमेशा ब्राह्मण और गायों के लिए अनुकूल हैं। मानवीय व्यक्तित्व के लिए आराम माध्यमिक है, और गायों के लिए आराम उनकी पहली चिंता का विषय है।


उनकी उपस्थिति की वजह से, सभी लोगों को सभी कठिनाइयों को दूर होगा और हमेशा दिव्य आनंद में स्थित हो। कृष्णा का कहना है कि श्रीमद भागवत "मैं गायों के स्वास्थ्य के लिए घास का प्रसाद और अन्य उपयुक्त अनाज और सामग्री से गायों के भीतर की पूजा की जा सकती है, और गाय के भीतर मुझे (कृष्णा) पूजा कर सकते हैं कृष्णा ने गायों से दोस्ती की पेशकश की और अपनी आर्थिक समस्याओं को हल करने के लिए ही पर्याप्त अनाज और पर्याप्त गायों की जरूरत है। अन्य सभी चीजों लेकिन इन दोनों मानव स्तर पर अपने बहुमूल्य जीवन को मारने और बातें हैं जो जरूरत नहीं है अपने समय बर्बाद करने के लिए आदमी द्वारा बनाई गई कृत्रिम आवश्यकताएं हैं। भगवान कृष्ण, मानव समाज के शिक्षक के रूप में, व्यक्तिगत रूप से अपने कृत्यों से पता चला है कि व्यापारिक समुदाय, या व्यापार समुदाय, गाय और बैल झुंड और इस प्रकार इन बहुमूल्य जानवरों को संरक्षण देना चाहिए। शास्त्रों के अनुसार, गाय माता है और बैल इंसान का पिता है। मानव समाज गाय का दूध लेता है


क्योंकि पिता बच्चों बैल जमीन में खाद्यान्न का उत्पादन करने के लिए कमाता है इसी तरह, बैल मानव समाज का पिता है। मानव समाज पिता और माँ की हत्या करके जीवन की अपनी भावना को मार देंगे। गाय पूर्णता के लिए मानव शरीर के विकास के लिए सबसे महत्वपूर्ण जानवर है। शरीर खाद्य पदार्थों के किसी भी तरह से बनाए रखा जा सकता है, लेकिन गाय के दूध मानव मस्तिष्क के ऊतकों के विकास महीन इतना है कि एक दिव्य ज्ञान की पेचीदगियों को समझ सकते हैं के लिए विशेष रूप से आवश्यक है। एक सभ्य आदमी जिसमें फल, सब्जियां, अनाज, चीनी और दूध खाद्य पदार्थों पर रहने की उम्मीद है। बैल अनाज, आदि के उत्पादन के कृषि प्रक्रिया में मदद करता है, और इस तरह एक अर्थ में बैल, मानव जाति का पिता है, जबकि गाय, माँ है वह मानव समाज के लिए दूध की आपूर्ति के लिए। एक सभ्य आदमी इसलिए बैल और गायों के लिए सभी सुरक्षा देने की उम्मीद है।


गाय एक ऐसा प्राणी है, जिसमें भगवान का वास माना गया है। शास्त्रों के अनुसार गाय माता में सुरभि नामक लक्ष्मी निवास करती है। सुरभि का अर्थ है- बहुत ही सुंदर आभा प्रदान करने वाली देवी। गाय से प्राप्त होने वाली हर वस्तु दूध गोबर गौ मुत्र घी दही सभी जीवन उपयोगी है। गाय के सिर से बहने वाला पसीना जिसे गोरोचन कहा जाता है। गोरोचन में लक्ष्मी प्राप्ति करा देने की क्षमता होती है। यही कारण है कि जिस घर में गाय को निवास कराया जाता है। उस घर में 33 कोटि देवता प्रसन्न रहते हैं। वहां किसी भी प्रकार का वास्तुदोष बगैर किसी उपाय को करें स्वतः ही दूर हो जाता है।


गाय की सेवा करने से मिलता है तीर्थदर्शन करने का पुण्य

शास्त्रों में गाय का अपमान करने वाले की घोर निंदा की गई है। गाय का मांस खाने वाले से बड़ा पापी इस जगत में कोई नहीं हो सकता है। ग्रंथों में स्पष्ट कहा गया है कि गौ माता का वध करना ऐसा पाप है, जिसका कोई प्रायश्चित्त ही नहीं है। जो पुण्य तीर्थ दर्शन करके या अनेक यज्ञों को करके बटोरा जाता है, वहीं सारा पुण्य केवल गौ माता की सेवा करने से ही प्राप्त हो जाता है। गाय का दरवाजे पर आकर रंभाना, दरवाजे को चांटना ये सभी शुभदायक होते हैं। यात्रा पर जाते समय गाय का दर्शन हो जाना शुभकारक होता है। घर के आंगन में बनी रंगोली पर गाय का पैर रखना बहुत शुभ माना गया है। गाय को रोज भोजन देने से नवग्रहों की शांति होती है।


ब्रह्मवैवर्तपुराण के अनुसारगौ के पैरों में समस्त तीर्थ का वास माना गया है। गौ माता के पैरों में लगी मिट्टी का जो व्यक्ति नित्य तिलक लगाता है, उसे किसी भी तीर्थ में जाने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि उसे सारा फल उसी समय वहीं प्राप्त हो जाता है। पुराणों में भी इसका उल्लेख मिलता हैकि गाय की पूँछ छूने मात्र से मुक्ति का मार्ग खुल जाता है। जो व्यक्ति सुबह जागने के बाद नित्य गौ माता के दर्शन करता है, उसकी अकाल मृत्यु कभी नहीं हो सकती, यह बात महाभारत में बहुत ही प्रामाणिकता के साथ कही गई है।


सर्वदेवमये देवि सर्वदेवैरलंकृते।

मातर्ममाभिलषितं सफलं कुरु नन्दिनि।।


गौ माता में हैं 33 कोटि देवताओं का निवास

वैदिक साहित्य के अनुसार जिन देवताओं का पूजन हम मंदिरों व तीर्थों में जाकर करते हैं। वे सारे देवता समूह रूप से गौ माता में विराजमान है। इसलिए पूर्ण श्रद्धा व विश्वास के साथ किसी भी कार्य की सिद्धि के लि नित्य गौ माता की सेवा करनी चाहिए। महाभारत में कहा गया है-


यत्पुण्यं सर्वयज्ञेषु दीक्षया च लभेन्नरः।

तत्पुण्यं लभते सद्यो गोभ्यो दत्वा तृणानि च।।


अर्थात् सारे यज्ञ करने में जो पुण्य है। सारे तीर्थ नहाने का जो फल मिलता है। वह फल गौ माता को चारा डालने से ही प्राप्त हो जाता है।

विष्णुधर्मोत्तरपुराण के अनुसार किसी भी अनिष्ट के नाश के लिए गौ माता के पूजन किया जाना चाहिए। जो इंसान रोेज गाय की


© 2016 . All rights reserved | Design by Creato Web IT Solutions